वर्चुअल रैली : मोदी का अखिलेश पर तंज, कहा- सत्ता का सपना देख रहे ‘नकली समाजवादी’

नई दिल्ली। पांच राज्यों में होने वाले विधानसभा चुनावों के तहत इस समय सभी सियासी दलों का रुझान उत्तर प्रदेश की ओर है। यही वजह है कि सोमवार को एक वर्चुअल रैली के माध्यम से पीएम मोदी ने न केवल यूपी की जनता को संबोधित किया बल्कि अपने धुर-विरोधी सपा को भी निशाने पर लिया। इस दौरान उन्होंने बीती अखिलेश सरकार की कलाई खोलते हुए उनके कार्यकाल में व्याप्त सभी खामियों को गिनाने का काम किया।

खबरों के मुताबिक़ वर्चुअल रैली के जरिए पीएम मोदी ने 21 विधानसभा क्षेत्रों के लोगों को संबोधित किया। वर्चुअल रैली की शुरुआत में प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने कहा कि पश्चिम उत्तर प्रदेश की ये वो धरती है जिसने 1857 की क्रांति में देश को एकजुटता का संदेश दिया था, कमल के फूल और रोटी ने हमेशा देश को बांटने वालों को मुंह तोड़ जवाब दिया। हम एकजुट रहेंगे तो कोई हमें कभी परास्त नहीं कर पाएगा।

पीएम मोदी ने कहा कि एक तरफ भाजपा है, जिसके बाद विकास का स्पष्ट विजन है। साफ सुधरा और ईमानदार नेतृत्व है। वहीं दूसरी तरफ अहंकार से भरे, समाज को तोड़ने वाले, किसी भी कीमत पर सत्ता पाने का सपना देख रहे नकली समाजवादी हैं। विजन के नाम पर इनके पास सिर्फ विरोध और गुस्सा है। आज यूपी कह रहा है कि एकबार फिर गरीबों की सरकार, बीजेपी की सरकार। डबल इंजन की सरकार है।

अपनी बातों को आगे बढ़ाते हुए मोदी ने कहा कि पांच साल पहले यूपी में दबंग और दंगाई ही कानून थे। उन्हीं का कहा ही शासन का आदेश था माफिया पहले सरकारी संरक्षण में घूमते थे। पहले व्यापारी लुटता था, बेटी घर से बाहर निकलने में घबराती थी और माफिया, सरकारी संरक्षण में खुलेआम घूमते थे। जब ये क्षेत्र दंगे की आग में जल रहा था, तो पहले वाली सरकार उत्सव मना रही थी।

सपा को आगे घेरते हुए मोदी ने कहा कि हम यूपी में बदलाव के लिए खुद को खपा रहे हैं। वे (सपा) आपसे बदला लेने की ठानकर बैठे हैं। इस बात की खुशी है कि यूपी की जनता इन दंगाई सोच रखने वालों से बहुत सतर्क है। यूपी की जनता वे पुराने दिन वापस नहीं चाहती।

मोदी बोले कि हमारा (बीजेपी) काम और उनके कारनामे, उनकी कारस्तानी देखकर इस बार भी यूपी की जनता, भाजपा को भरपूर आशीर्वाद देने जा रही है और इसमें भी जो हमारे फर्स्ट टाइम वोटर्स हैं, वो खुलकर भाजपा के साथ हैं। युवाओं का जिक्र करते हुए पीएम ने कहा कि जो अंधविश्वास के चलते नोएडा आने से कतराते हैं, जो अपने टीके (कोरोना वैक्सीन), वैज्ञानिकों पर विश्वास नहीं करते। क्या वह यूपी के युवाओं के टैलेंट, इनोवेशन का सम्मान कर सकते हैं? यहां पीएम का इशारा अखिलेश यादव की तरफ था।

Related Articles

Leave a Reply

Your email address will not be published.

two × 2 =

Back to top button