विजय दिवसः जानिए कैसे 13 दिन में पाक हुआ था भारत के सामने घुटने टेकने को मजबूर

आज का दिन इतिहास के नजरिए से काफी अहम है। 1971 में पाकिस्तान के साथ हुए युद्ध में भारत की ऐतिहासिक जीत के 50 साल पूरा हो गए है। इस मौके पर गुरुवार को विजय दिवस मनाया जा रहा है। इस अवसर पर विभिन्न संगठनों ने शहीद सैनिकों के अमर बलिदान को याद किया जा रहा है।

बात साल 1971 की है। जब भारत और पाकिस्तान के बीच युद्ध हुआ था। 03 दिसंबर1971 को युद्ध का ऐलान हुआ और 13 दिनों में भारतीय सेना ने पाकिस्तान को उसकी औकात दिखा दी। इस ऐतिहासिक जीत के उपलक्ष्य में हर साल 16 दिसंबर को विजय दिवस मनाया जाता है। इस जीत के बाद बांग्लादेश का निर्माण हुआ।

विजय दिवस का इतिहास

13 दिनों तक चलने वाला युद्ध 16 दिसंबर को बिना शर्त पाकिस्तासनी सेना ने घुटने टेक दिए। 93,000 पाकिस्तानी सैनिकों के साथ आत्मसमर्पण किया। भारत के पूर्वी कमान के तत्कालीन जनरल ऑफिसर कमांडिंग-इन-चीफ लेफ्टिनेंट जनरल जगजीत सिंह अरोड़ा द्वारा समर्पण के दस्ताकवेजों पर हस्ताक्षर किए गए और स्वीकार किए गए।

द्वितीय विश्व युद्ध के बाद, यह अब तक का सबसे बड़ा सैन्य आत्मसमर्पण भी था और नियाज़ी की समर्पण पर हस्ताक्षर करने वाली प्रतिष्ठित तस्वीर शक्तिशाली भारतीय सेना की बहादुरी की कहानी कहती है। इस युद्ध में, पाकिस्तान को सबसे अधिक नुकसान हुआ। सेना ने लगभग 8,000 सिपाही खोए और 25,000 घायल हुए, जबकि भारत के 3000 सैनिक शहीद और कई हजार घायल हो गए।

बांग्लादेश का निर्माण

1971 के युद्ध ने बांग्लादेश को दुनिया के नक्शे पर ला खड़ा किया। इससे पहले तक यह पूर्वी पाकिस्तान था। बांग्लादेश पाकिस्तान से देश की औपचारिक स्वतंत्रता को चिह्नित करने के लिए दिन को ‘Bijoy Bidos’  के रूप में मनाता है।  इस दिन, भारत के रक्षा मंत्री और भारतीय सशस्त्र बलों के तीनों अंगों के प्रमुख नई दिल्ली में इंडिया गेट पर अमर जवान ज्योति पर सैनिकों को श्रद्धांजलि देते हैं।

Related Articles

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

two + 13 =

Back to top button