गणतंत्र दिवस: राजपथ पर मनाया गया ‘आजादी का अमृत महोत्सव’, सेना की शक्ति देख लोग दंग

नई दिल्ली। इस बार का 26 जनवरी यानि गणतंत्र दिवस पूरे देश में ‘आजादी का अमृत महोत्सव’ के रूप में मनाया गया। राजपथ पर निकली भव्य परेड में भारत ने अपनी सैन्य शक्ति और सांस्कृतिक विविधता का प्रदर्शन किया।

राष्ट्रपति रामनाथ कोविंद और प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी की मौजूदगी में भारत की तीनों सेनाओं, सुरक्षाबलों की टुकड़ियों और आधुनिक हथियारों के प्रदर्शन ने देश का गौरव बढ़ाया। परेड का अंतिम आकर्षण वायुसेना के 75 लड़ाकू विमानों और हेलीकॉप्टरों का फ्लाई पास्ट रहा, जिन्होंने राजधानी के आसमान को गुंजा दिया।

इससे पहले प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी ने राष्ट्रीय युद्ध स्मारक जाकर पूरे देश की ओर से अलग-अलग युद्धों और ऑपरेशन में जान गंवाने वाले वीर शहीदों को श्रद्धांजलि अर्पित की और इसके बाद परेड देखने के लिए राजपथ के सलामी मंच पर पहुंचे।

भारतीय नौसेना

पिछले भाग में 1983 से 2021 तक भारतीय नौसेना की ‘मेक इन इंडिया’ पहल को दर्शाया गया। भारतीय नौसेना की झांकी में ‘आजादी का अमृत महोत्सव’ का भी जिक्र किया गया।

भारतीय वायु सेना

राजपथ पर ‘नारी शक्ति’ की भी झलक दिखी क्योंकि राफेल की एकमात्र महिला फाइटर शिवांगी सिंह ने राष्ट्रपति रामनाथ कोविंद को सलामी दी। पहली बार वायुसेना की सबसे बड़ी टुकड़ी ने 75 विमानों के साथ फ्लाई पास्ट में हिस्सा किया।

राज्यों की झांकियों में दिखी भारत की गौरवपूर्ण विविधता

गणतंत्र दिवस परेड में 12 राज्यों की झांकियां शामिल हुईं जिसमें उत्तर प्रदेश की झांकी में काशी विश्वनाथ धाम को दर्शाया गया।

केन्द्रीय मंत्रालयों की झांकियां

इसके अलावा 09 केन्द्रीय मंत्रालयों की झांकियां भी परेड का हिस्सा बनीं जिसमें शिक्षा मंत्रालय और कौशल विकास और उद्यमिता मंत्रालय की झांकी में राष्ट्रीय शिक्षा नीति, नागरिक उड्डयन मंत्रालय की झांकी में ‘उड़ान-उड़े देश का आम नागरिक’, संचार मंत्रालय व डाक विभाग की झांकी का विषय ‘भारतीय डाक: 75 वर्ष @ संकल्प-महिला अधिकारिता’ रखा गया। झांकियों के बाद सीमा सुरक्षा बल (बीएसएफ) की सीमा भवानी के नेतृत्व में मोटर साइकिल टीम और भारत-तिब्बत सीमा पुलिस (आईटीबीपी) के हिमवीरों ने मोटर साइकिल पर हैरतंगेज प्रदर्शन किया।

Related Articles

Leave a Reply

Your email address will not be published.

Back to top button