सशस्त्र बलों को 384 वीरता पुरस्कार, सेना के छह जवानों को शौर्य चक्र

नई दिल्ली। राष्ट्रपति राम नाथ कोविंद ने 73वें गणतंत्र दिवस समारोह की पूर्व संध्या पर मंगलवार को सशस्त्र बलों के लिए 384 वीरता और अन्य रक्षा अलंकरणों के पुरस्कारों को मंजूरी दी है। भारतीय सेना के छह सैनिकों को शौर्य चक्र से नवाजा गया है जिसमें पांच को यह सम्मान मरणोपरांत दिया गया है। टोक्यो ओलंपिक के स्वर्ण पदक विजेता 4 राजपूताना राइफल्स के सूबेदार नीरज चोपड़ा को परम विशिष्ट सेवा पदक से नवाजा जाएगा। चीन और पाकिस्तान की सीमा पर तैनात गणतंत्र दिवस पर उत्तम युद्ध सेवा पदक से सम्मानित किया जाएगा।

इसके अलावा 29 परम विशिष्ट सेवा पदक, 04 उत्तम युद्ध सेवा पदक, 53 अति विशिष्ट सेवा पदक, 13 युद्ध सेवा पदक, 03 बार विशिष्ट सेवा पदक, 122 विशिष्ट सेवा पदक, 03 बार सेना पदक (वीरता) दिए जायेंगे। इसके अलावा 81 सेना पदक (वीरता), 02 वायु सेना पदक (वीरता), 40 सेना पदक (कर्तव्य के प्रति समर्पण), 08 नौ सेना पदक (कर्तव्य के प्रति समर्पण) और 14 वायु सेना पदक (कर्तव्य के प्रति समर्पण) दिए जाने हैं।

इस बार विशिष्ट सेवा मेडल्स के तीन ”बार” भी दिए जाने हैं। पहले ही किसी वीरता पुरस्कार से सम्मानित हो चुके सैनिकों को दोबारा यह पुरस्कार मेडल के तौर पर न देकर एक ”बार” के रूप में दिया जाता है। राष्ट्रपति रामनाथ कोविंद 122 विशिष्ट सेवा मेडल्स, 81 सेना मेडल्स (वीरता), दो वायुसेना मेडल्स (वीरता), 40 सेना मेडल्स (ड्यूटी के प्रति समर्पण), आठ नाव सेना मेडल्स (ड्यूटी के प्रति समर्पण) और 14 वायुसेना मेडल्स (ड्यूटी के प्रति समर्पण) वितरित करेंगे।

पूर्वी लद्दाख में चीन सीमा और जम्मू-कश्मीर में पाकिस्तान की सीमा पर परिचालन क्षेत्रों में उनकी भूमिका के लिए 14 कोर कमांडर लेफ्टिनेंट जनरल पीजीके मेनन और 15 कोर कमांडर लेफ्टिनेंट जनरल देवेंद्र प्रताप पांडे को गणतंत्र दिवस पर उत्तम युद्ध सेवा पदक से सम्मानित किया जाएगा। ऑपरेशन स्नो लेपर्ड, ऑपरेशन मेघदूत और ऑपरेशन सद्भावना में योगदान के लिए लेह एयर बेस के चीफ ऑपरेशन ऑफिसर ग्रुप कैप्टन अजय राठी को वायु सेना मेडल से सम्मानित किया गया है। गणतंत्र दिवस पर सेना के उप-प्रमुख लेफ्टिनेंट जनरल मनोज पांडे, लेफ्टिनेंट जनरल वाईके जोशी, लेफ्टिनेंट जनरल केजेएस ढिल्लों और लेफ्टिनेंट जनरल माधुरी कानितकर को परम विशिष्ट सेवा पदक से सम्मानित किया जाएगा।

शौर्य चक्र

1. नायब सूबेदार श्रीजीत एम- 17वीं बटालियन मद्रास रेजीमेंट

2. हवलदार पिंकू कुमार- जाट रेजिमेंट/34वीं बटालियन राष्ट्रीय राइफल

3. हवलदार अनिल कुमार तोमर- राजपूत रेजिमेंट/44 राष्ट्रीय राइफल्स

4. हवलदार काशीराय बम्मनल्ली- कोर ऑफ इंजीनियर्स/ 44वीं बटालियन राष्ट्रीय राइफल

5. सिपाही मारुप्रोलू कुमार रेड्डी- 17वीं बटालियन मद्रास रेजिमेंट

6. राइफलमैन राकेश शर्मा- 5 असम राइफल्स

वायु सेना पदक (शौर्य)

1. विंग कमांडर चिन्मय पात्रो

2. स्क्वाड्रन लीडर सूरज नायर

Related Articles

Leave a Reply

Your email address will not be published.

Back to top button