पीएम मोदी को मिला लता दीनानाथ मंगेशकर अवॉर्ड, स्वर कोकिला को याद कर कही ये बात

मुंबई में स्थित श्रीषणमुखानंद सभागृह में रविवार को मास्टर दीनानाथ प्रतिष्ठान और मंगेशकर परिवार की ओर से लता दीनानाथ मंगेशकर पुरस्कार से प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी को सम्मानित किया गया। दिवंगत गायिका लता मंगेशकर के नाम पर यह पहला पुरस्कार है। पीएम मोदी ने इस पुरस्कार को देश जनता को समर्पित किया है।

इस मौके पर प्रधानमंत्री मोदी ने कहा कि इस कार्यक्रम में हृदयनाथ मंगेशकर भी उपस्थित रहने वाले थे लेकिन उनकी तबीयत खराब होने की वजह से वे उपस्थित नहीं हो सकें। मैं उनके शीघ्र स्वस्थ होने की कामना करता हूं। प्रधानमंत्री ने कहा कि संगीत क्षेत्र का मुझे ज्यादा ज्ञान नहीं है लेकिन संगीत का महत्व मुझे पता है। संगीत एक स्वर आंखों से आसू निकाल सकता है। संगीत का स्वर वैराग उत्पन्न कर सकता है तथा संगीत का स्वर राष्ट्रभक्ति की भावना का संचार कर सकता है। देश ने संगीत की शक्ति लता दीदी के रूप में महसूस किया है। लता दीदी से मेरा परिचय 45 साल पुराना है। यह परिचय सुधीर फडके ने करवाया था। लता दीदी स्वरकोकिला के साथ मेरी बड़ी बहन थीं। इस वर्ष आने वाला रक्षाबंधन में वह नहीं होंगी, इसका दुख है। प्रधानमंत्री ने कहा कि मैं आमतौर पर कोई पुरस्कार स्वीकार नहीं करता। हालांकि, मैं लता दीदी के नाम पर दिए गए पुरस्कार को स्वीकार करने के प्रलोभन का विरोध नहीं कर सका। यह पुरस्कार मंगेशकर परिवार के प्यार का प्रतीक है।

उन्होंने कहा कि मैं आमतौर पर कोई पुरस्कार स्वीकार नहीं करता लेकिन पुरस्कार जब लता दीदी जैसी बड़ी बहन के नाम से हो, तो मेरे लिए उनके अपनत्व और प्यार का ही एक प्रतीक है। इसलिए, मन करना मेरे लिए मुमकिन ही नहीं है। मैं इस पुरस्कार को सभी देशवासियों के लिए समर्पित करता हूं।

उन्होंने कहा कि लता दीदी मेरे लिए बड़ी बहन जैसी थीं। कई दशकों के बाद इस साल का राखी का त्योहार उनके बिना पहला होगा।

प्रधानमंत्री ने कहा कि उन्हें संगीत जैसे विषय का ज्ञान नहीं है। लेकिन सांस्कृतिक समझ से, मुझे लगता है कि संगीत भी एक साधना और एक भावना है। उन्होंने कहा कि संगीत से आपमें वीररस भरता है। संगीत मातृत्व और ममता की अनुभूति करवा सकता है। संगीत आपको राष्ट्रभक्ति और कर्तव्यबोध के शिखर पर पहुंचा सकता है। हम सब सौभाग्यशाली हैं कि हमने संगीत की इस सामर्थ्य को, इस शक्ति को लता दीदी के रूप में साक्षात् देखा है।

प्रधानमंत्री ने यह भी कहा कि संगीत की साम्राज्ञी होने के साथ-साथ लता मंगेशकर उनकी बड़ी बहन भी थीं। पीढ़ियों को प्रेम और भावना का उपहार देने वाली लता दीदी से अपनी बहन जैसा प्रेम मिला हो, इससे बड़ा सौभाग्य और क्या होगा। प्रधानमंत्री ने कहा कि संगीत के साथ-साथ राष्ट्रभक्ति की जो चेतना लता दीदी के भीतर थी, उसका स्रोत उनके पिताजी ही थे। आज़ादी की लड़ाई के दौरान शिमला में ब्रिटिश वायसराय के कार्यक्रम में दीनानाथ ने वीर सावरकर का लिखा गीत गाया था। उसकी थीम पर प्रदर्शन किया था। वीर सावरकर ने ये गीत अंग्रेजी हुकूमत को चुनौती देते हुये लिखा था। ये साह, ये देशभक्ति, दीनानाथ जी ने अपने परिवार को विरासत में दी थी।

प्रधानमंत्री ने कहा कि लता जी ‘एक भारत, श्रेष्ठ भारत’ की मधुर प्रस्तुति की तरह थीं। आप देखिए, उन्होंने देश की 30 से ज्यादा भाषाओं में हजारों गीत गाये। हिन्दी हो मराठी, संस्कृत हो या दूसरी भारतीय भाषाएं, लताजी का स्वर वैसा ही हर भाषा में घुला हुआ है। उन्होंने कहा कि संस्कृति से लेकर आस्था तक, पूरब से लेकर पश्चिम तक, उत्तर से दक्षिण तक, लता जी के सुरों के पूरे देश को एक सूत्र में पिरोने का काम किया। दुनिया में भी, वो हमारे भारत की सांस्कृतिक राजदूत थीं।

गौरतलब है कि स्वर कोकिला लता मंगेशकर का 92 वर्ष की आयु में 6 फरवरी 2022 को निधन हो गया। उनकी स्मृति और सम्मान में लता दीनानाथ मंगेशकर पुरस्कार स्थापित किया गया है। यह पुरस्कार प्रत्येक वर्ष सिर्फ एक व्यक्ति को राष्ट्र निर्माण में अनुकरणीय योगदान के लिए दिया जाएगा। यह पुरस्कार उस व्यक्ति के लिए भी स्थापित किया गया है जिसने हमारे देश, उसके लोगों और हमारे समाज के लिए पथप्रदर्शक, शानदार और अनुकरणीय योगदान दिया है।

Related Articles

Leave a Reply

Your email address will not be published.

16 − 11 =

Back to top button