बसपा के साथ गठबंधन पर बोले पैनलिस्ट तो भाजपा प्रवक्ता ने दो टूक में दिया ये जवाब

उत्तर प्रदेश में विधानसभा चुनाव से पहले ही नेताओं का पार्टी छोड़ आने जाने का सिलसिला लगातार जारी है। सभी राजनीतिक पार्टिंयां एक दूसरे पर आरोप प्रत्यारोप लगा रही हैं। चुनाव आयोग द्वारा जारी की गई चुनाव तारीख पास आ रही है। साथ ही सभी दल अपने प्रत्यासियों की लिस्ट भी जारी कर रहे हैं। ऐसे में हर रोज यूपी के सियासी समीकरण बदलते दिखाई दे रहे हैं। बता दें कि चुनावी सरगर्मी के बीच टीवी न्यूज चैनलों पर भी खूब बहस देखने को मिल रही है।

खबरों के अनुसार एक न्यूज चैनल पर यूपी चुनाव को लेकर हुई एक डिबेट में एक पैनलिस्ट ने दावा किया कि चुनाव नतीजों के बाद भाजपा और बसपा के बीच गठबंधन हो जाएगा। बता दें कि डिबेट में पैनलिस्ट के तौर पर शामिल पत्रकार ने दावा किया कि चुनाव बाद बसपा और भाजपा एक हो जाएंगे।

उन्होंने कहा कि मेरे पास पुख्ता खबर है कि अगर भाजपा सत्ता में आती है तो उसमें बसपा की भागीदारी होगी। यही कारण है कि बसपा पूरी ताकत से चुनावी मैदान में नहीं है। ऋषि मिश्रा के दावों पर जवाब देते हुए भाजपा सांसद सुब्रत पाठक ने कहा कि इनका क्या कहना है ये वहीं जानते हैं। कुल मिलाकर इनका भी वही हाल है जो समाजवादी पार्टी का है।

उन्होंने कहा कि पिछले समय में सपा-बसपा ने एक साथ मिलकर चुनाव लड़ा और उसका नतीजा सबके सामने है। सपा बसपा एक जाति विशेष के वोट आधार पर राजनीति करती है।

सुब्रत पाठक ने कहा कि मुसलमानों में भाजपा के खिलाफ डर पैदा करने का काम किया जा रहा है। तुष्टिकरण की राजनीति हो रही है। उन्होंने कहा कि यह चुनाव यूपी के विकास का चुनाव है। यूपी में भाजपा सरकार से पहले केवल परिवार और उनके चेले-चमचों का विकास होता था। लेकिन अब आम आदमी का विकास हुआ है।

बता दें कि चुनावी सरगर्मी के बीच 19 जनवरी को समाजवादी पार्टी को तगड़ा झटका लगा है। दरअसल मुलायम सिंह यादव की छोटी बहू अपर्णा यादव ने दिल्ली में भाजपा का दामन थाम लिया। माना जा रहा है कि पहले चरण की वोटिंग से पहले यह घटनाक्रम सपा के लिए अच्छा नहीं है।

Related Articles

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Back to top button