ओपी राजभर कर सकते हैं एनडीए में वापसी? मंत्री पद के लिए की थी अमित शाह से मुलाक़ात!

लखनऊ। यूपी में भाजपा की प्रचंड जीत के बाद एक बार फिर बड़ा सियासी फेरबदल देखने को मिल सकता है। खबर यह है कि चुनावी समर में भाजपा के खिलाफ सपा के कंधे से कंधा मिलकर चलने वाले सुहेलदेव भारतीय समाज पार्टी के अध्यक्ष ओमप्रकाश राजभर भाजपा का दामन थाम एनडीए में शामिल हो सकते हैं। इस बात की सुगबुगाहट तब से शुरू हुई, जब होली के मौके पर राजभर अमित शाह, धर्मेन्द्र प्रधान और सुनील बंसल से मुलाक़ात की।

बता दें, बीजेपी के नेतृत्व वाले गठबंधन को यूपी चुनाव में प्रचंड जीत मिली। बीजेपी के नेतृत्व वाले गठबंधन ने 403 में से 273 सीटें जीतकर सत्ता में वापसी कर ली। ओमप्रकाश राजभर जिस विपक्षी गठबंधन में शामिल थे, उसे 125 सीटों से संतोष करना पड़ा।

हालांकि, ओमप्रकाश राजभर जिस जहूराबाद विधानसभा सीट से लगातार दूसरी बार निर्वाचित हुए हैं, वह गाजीपुर जिले में पड़ता है और गाजीपुर में बीजेपी गठबंधन एक भी सीट जीतने में सफल नहीं हो सका।

खबरों के मुताबिक़ ओमप्रकाश राजभर फिर से एनडीए में वापसी को तैयार हैं। दरअसल, इस सिलसिले में ओमप्रकाश राजभर गृह मंत्री अमित शाह के साथ ही धर्मेंद्र प्रधान, सुनील बंसल से मुलाकात भी कर चुके हैं। माना जा रहा है कि ओमप्रकाश राजभर को सुभासपा के कोटे से योगी मंत्रिमंडल में मंत्री भी बनाया जा सकता है।

जानकारी के मुताबिक ओमप्रकाश राजभर ने अमित शाह, धर्मेंद्र प्रधान और सुनील बंसल के साथ 18 मार्च को मुलाकात की। ओमप्रकाश राजभर की इन नेताओं के साथ मुलाकात करीब घंटेभर चली। हालांकि, आधिकारिक तौर पर इसकी पुष्टि अभी नहीं हुई है। न तो बीजेपी और ना ही ओमप्रकाश राजभर ने ही इस संबंध में कोई बयान दिया है।

गौरतलब है कि 2017 के विधानसभा चुनाव में ओमप्रकाश राजभर की पार्टी बीजेपी के साथ गठबंधन कर चुनाव मैदान में उतरी थी। चुनावी जीत के बाद यूपी में जब बीजेपी की सरकार बनी, ओमप्रकाश राजभर को योगी आदित्यनाथ की कैबिनेट में मंत्री भी बनाया गया, लेकिन कुछ समय बाद राजभर ने बीजेपी और सरकार के खिलाफ मोर्चा खोल दिया था।

हाल ही में संपन्न यूपी चुनाव में ओमप्रकाश राजभर की पार्टी अखिलेश यादव की समाजवादी पार्टी (सपा) के नेतृत्व वाले विपक्षी गठबंधन में शामिल होकर चुनाव मैदान में उतरी। चुनाव प्रचार के दौरान भी राजभर ने बीजेपी को लेकर आक्रामक तेवर दिखाए और सूबे से योगी आदित्यनाथ की सरकार को उखाड़ फेंकने का दंभ भरते रहे।

Related Articles

Leave a Reply

Your email address will not be published.

4 × 3 =

Back to top button