एक बार फिर सरकार ने लिया बड़ा फैसला, जल्द लग सकता है इन 54 ऐप्स पर प्रतिबन्ध 

नई दिल्ली। साल 2020 में चीन के साथ हुई हिंसक झड़प के बाद डेटा की सुरक्षा के नजरिए से भारत सरकार ने देश में चीन के कई ऐप्स को प्रतिबंधित कर दिया था। अब ताजा मामले में यह खबर आमने आई है कि इन प्रतिबंधित ऐप्स में सरकार ने 54 अन्य नामों को भी शामिल कर दिया है। सरकार का कहना है कि इन ऐप्स से भारत की सुरक्षा को खतरा हो सकता है। इसलिए इन ऐप्स पर भी अबसे प्रतिबन्ध लगाया जा रहा है।

बता दें, 2020 में लद्दाख में एलएसी पर भारत और चीन के बीच तनाव के बाद सबसे पहले टिकटॉक समेत 59 चाइनीज ऐप्स पर बैन लगा था।

खबरों के मुताबिक़ सरकार ने आईटी कानून की धारा 69ए के तहत इन ऐप को प्रतिबंधित किया गया है। हालांकि, प्रतिबंधित ऐप्स की नई सूची में ज्यादातर उन ऐप्स के क्लोन शामिल हैं, जो 2020 से भारत में पहले से ही प्रतिबंधित थे। 50 और प्रतिबंधित ऐप्स के साथ, कुल ऐप्स की सूची जो भारत द्वारा प्रतिबंधित है, का आंकडा 320 के करीब पहुंच सकता है।

बताया जा रहा है कि ताजा प्रतिबंधित 54 ऐप्स की लिस्ट में Tencent, अलीबाबा और गेमिंग फर्म NetEase जैसी बड़ी चाइनीज कंपनियों के ऐप्स शामिल हैं। इसके अलवा Sweet Selfie HD, Beauty Camera – Selfie Camera, Equalizer & Bass Booster, CamCard for SalesForce Ent, Isoland 2: Ashes of Time Lite, Viva Video Editor, Tencent Xriver, Onmyoji Chess, Onmyoji Arena, AppLock and Dual Space Lite जैसे एप्स भी शामिल हैं।

इससे पहले भारत ने टिकटॉक, यूसी ब्राउजर, शेयर इट, हेलो, लाइकी, वी चैट, ब्यूटी प्लस जैसे लोकप्रिय ऐप्स पर बैन लगाया था। इसके बाद सरकार ने 47 मोबाइल ऐप्स पर बैन लगा दिया जिसमें से ज्यादातर या तो पहले से प्रतिबंधित ऐप्स के क्लोन थे या फिर उनसे मिलते-जुलते थे।

वहीं सितंबर 2021 में भारत ने 118 और मोबाइल ऐप्स पर बैन लगाया, जिसमें लोकप्रिय गेमिंग ऐप पबजी भी शामिल था। इसके अलावा अलावा लिविक, वीचैट वर्क, वीचैट रीडिंग, कैरम फ्रेंड्स, कैमकार्ड जैसे ऐप्स पर बैन लगा।

2020 के बाद से कुल 270 चीनी ऐप्स पर प्रतिबंध लग चुका है। लेकिन 2022 में सरकार की तरफ से प्रतिबंधित किए गए ऐप्स की यह पहली खेप है। नए प्रतिबंध में पहले प्रतिबंधित ऐप्स भी शामिल हैं, लेकिन क्लोन के रूप में फिर से सामने आए हैं। इन पर बैन के लिए गूगल प्ले-स्टोर को फरमान भेजा गया है।

Related Articles

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Back to top button