लौहपुरुष सरदार पटेल की पुण्यतिथि पर मोदी-योगी समेत देश के कई दिग्गज नेताओं ने दी श्रद्धांजली

लखनऊ। लौहपुरुष सरदार वल्लभभाई पटेल की पुण्यतिथि के मौके पर पीएम मोदी और यूपी के सीएम योगी समेत देश के कई नेताओं ने उन्हें याद करते हुए श्रद्धांजली अर्पित की। बता दें कि सरदार पटेल को देश के सर्वोच्च नागरिक सम्मान ‘भारतरत्न’ से नवाजा गया था।

खबरों के मुताबिक सरदार वल्लभभाई पटेल की पुण्यतिथि पर प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने ट्वीट कर कहा कि सरदार वल्लभ भाई पटेल को उनकी पुण्य तिथि पर नमन। उनकी महान सेवा, उनके प्रशासनिक कौशल और हमारे राष्ट्र को एकजुट करने के अथक प्रयासों के लिए भारत हमेशा उनका आभारी रहेगा।

उत्तर प्रदेश के मुख्यमंत्री  योगी आदित्यनाथ ने KOO पर पोस्ट करते हुए लिखा कि माँ भारती के अनन्य उपासक, भारतीय गणराज्य के शिल्पकार, ‘भारत रत्न’ लौह पुरुष सरदार वल्लभ भाई पटेल जी को उनकी पुण्यतिथि पर विनम्र श्रद्धांजलि। एक भारत-श्रेष्ठ भारत-अखण्ड भारत के निर्माण हेतु समर्पित आपका सम्पूर्ण जीवन सभी भारतवासियों के लिए एक महान प्रेरणा है।

वहीं लोकसभा अध्यक्ष ओम बिरला ने पोस्ट करते हुए लिखा कि महान देशभक्त ‘भारत रत्न’ लौह पुरुष सरदार वल्लभ भाई पटेल जी की पुण्यतिथि पर कोटि-कोटि नमन। भारत की एकता, अखंडता एवं राष्ट्रीय स्वाभिमान के लिए सरदार पटेल का योगदान, हम सभी के लिए सदैव प्रेरणास्रोत रहेगा। कृतज्ञ राष्ट्र उनका वंदन करता है।

सड़क परिवहन और राजमार्ग मंत्री नितिन गडकरी ने KOO में पोस्ट करते हुए श्रद्धांजलि की ओर लिखा कि राष्ट्रीय नवभारत के विमान ‘लौह पुरुष’ भारत रत्न वल्लभ भाई पटेल जी को स्थिति पर खराब।

केंद्रीय मंत्री अर्जुन मुंडा ने पोस्ट करते हुए लिखा कि सरदार वल्लभभाई झावेरभाई पटेल जी को मेरी विनम्र श्रद्धांजलि, जिन्होंने साल 1947 से 1950 तक भारत के पहले उप प्रधान मंत्री के रूप में अपनी सेवाएं दी। भारत के राजनीतिक एकीकरण और साल 1947 के भारत-पाकिस्तान युद्ध के दौरान गृह मंत्री के रूप में भी काम किया।

बता दें कि भारत के प्रथम उपप्रधानमंत्री तथा गृहमंत्री सरदार वल्लभभाई पटेल का जन्म 31 अक्टूबर, 1875 को गुजरात के नाडियाद में हुआ था। वह पेशे से वकील थे, लेकिन मंझे हुए राजनीतिज्ञ और स्वतंत्रता सेनानी के तौर पर ज़्यादा जाने गए। भारत की आज़ादी की लड़ाई और स्वतंत्रता के बाद समूचे देश को एकजुट करने में उनका योगदान अविस्मरणीय है। वर्ष 1991 में भारत सरकार ने उन्हें मरणोपरांत ‘भारतरत्न’ से सम्मानित किया था। सरदार वल्लभभाई पटेल ने पूरा जीवन देश की सेवा में समर्पित कर दिया था। उनका देहावसान 15 दिसंबर, 1950 को हुआ था, जब वह 75 वर्ष के थे।

Related Articles

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

9 + eight =

Back to top button