यूपी में पर्यटन की सुविधा के लिए नई Helicopter Taxi सेवा

उत्तर प्रदेश पर्यटन विभाग हेलीकॉप्टर टैक्सी शुरू करने की तैयारी कर रहा है, जो राज्य भर के प्रमुख दर्शनीय स्थलों को जोड़ेगी। पब्लिक-प्राइवेट पार्टनरशिप (पीपीपी) मॉडल के आधार पर, यह Helicopter Taxi सेवा मुख्य रूप से उन लोगों को पूरा करेगी जो यात्रा के दौरान भीड़ से बचने का इरादा रखते हैं। यह सुविधा इस साल के अंत तक दिसंबर में शुरू होने की संभावना है।

पर्यटन स्थलों के बीच खराब कनेक्टिविटी को खत्म करेगी चॉपर-टैक्सी

प्रधानाचार्य ने कहा, “ज्यादातर पर्यटक, विशेष रूप से विदेशी, अच्छी कनेक्टिविटी के कारण ताजमहल देखने के लिए आगरा आते हैं, लेकिन वही पर्यटक खराब कनेक्टिविटी के कारण समान रूप से महत्वपूर्ण अन्य पर्यटन स्थलों को छोड़ देते हैं। Helicopter Taxi सेवा ऐसे पर्यटकों के लिए एक फायदा साबित होगी।” राज्य के संस्कृति एवं पर्यटन विभाग के सचिव मुकेश कुमार मेश्राम। आधिकारिक सूत्रों के अनुसार, आगंतुक गंतव्य की यात्रा कर सकते हैं और उसी दिन इस सेवा की मदद से वापस आ सकते हैं।

महामारी के कारण देश में पर्यटन को बड़ा झटका लगा है और इसके पुनरुद्धार के लिए इस तरह की सुविधाएं बेहद जरूरी हैं। ये हेलीकॉप्टर सवारी पर्यटकों को कम समय में कई गंतव्यों तक पहुंचने का रास्ता प्रदान करेगी और यात्रा के अन्य भीड़-भाड़ वाले साधनों से बेहतर विकल्प भी होगी।

यह भी पढ़ें – ट्रैफिक से निजात पाने के लिए Awadh चौराहे पर बनेगी फ्री लेफ्ट लेन

मथुरा और प्रयागराज में बनेगा आगरा जैसा हेलीपोर्ट

रिपोर्टों के अनुसार, वर्तमान में केवल आगरा हेलीपोर्ट तैयार है जबकि प्रमुख पर्यटन स्थलों में अन्य हेलीपोर्ट का निर्माण कार्य चल रहा है। मथुरा और प्रयागराज में सेवा को कुशलतापूर्वक स्थापित करने के लिए आवश्यक सुविधाओं के साथ हेलीपोर्ट की योजना बनाई जा रही है, जो पहले से ही आगरा में बनाया गया है।

हेलीकॉप्टर की सवारी लखनऊ, विंध्याचल, प्रयागराज, वाराणसी और यूपी के अन्य शहरों को जोड़ेगी। यात्री इस सेवा का उपयोग बोधगया और कुशीनगर में प्रसिद्ध बौद्ध तीर्थ स्थलों की यात्रा के लिए भी कर सकेंगे। एक बार तैयार हो जाने पर, यह नई सेवा निश्चित रूप से पर्यटकों को आकर्षित करेगी, एक पूरी तरह से अलग यात्रा अनुभव प्रदान करके जो न केवल समय बचाता है बल्कि इन अभूतपूर्व समय के दौरान सुरक्षा भी सुनिश्चित करता है।

AUTHOR – FATIMA NAQVI

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

seventeen + 19 =

Back to top button