मोदी ने कही ‘मन की बात’… चोरी हुई प्राचीन मूर्तियों को वापस लाना हमारी जिम्मेदारी

नई दिल्ली। देश के प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने एक बार फिर रेडियो के माध्यम से देश की जनता से ‘मन की बात’ की। अपने मन की बात कार्यक्रम के माध्यम से उन्होंने देश में होने वाली बहुमूल्य और कीमती मूर्तियों की चोरी का मुद्दा उठाया। उन्होंने कहा कि प्राचीन और बहुमूल्य ये मूर्तियां हमारे देश की धरोहर है, जो चोरी होकर सालों से देश के बाहर ले जाई जाती रही है। ऐसे में इन मूर्तियों को देश वापस लाने की जिम्मेदारी हमारी है।  

खबरों के मुताबिक़ पीएम मोदी ने मन की बात (Mann Ki Baat) कार्यक्रम में कहा, ‘इस महीने की शुरुआत में भारत, इटली से अपनी एक बहुमूल्य धरोहर को लाने में सफल हुआ है। ये धरोहर है अवलोकितेश्वर पद्मपाणि की हजार साल से भी ज्यादा पुरानी प्रतिमा। ये मूर्ति कुछ वर्ष पहले बिहार में गया जी के देवी स्थान कुंडलपुर मंदिर से चोरी हो गई थी।’

उन्‍होंने कहा, ‘ऐसे ही कुछ वर्ष पहले तमिलनाडु के वेल्लूर से भगवान आंजनेय्यर, हनुमान जी की प्रतिमा चोरी हो गई थी। हनुमान जी की ये मूर्ति भी 600-700 साल पुरानी थी।  इस महीने की शुरुआत में ऑस्ट्रेलिया में हमें ये प्राप्त हुई, हमारे मिशन को मिल चुकी है।’

उन्होंने कहा कि, हमारे हजारों वर्षों के इतिहास में, देश के विभिन्न हिस्सों में हमेशा एक से बेहतर मूर्तियाँ बनाई जा रही हैं। इसमें श्रद्धा, क्षमता, कौशल भी शामिल था और यह विविध विविधताओं से भरा था और हमारी प्रत्येक मूर्ति का इतिहास भी अपने-अपने समय के प्रभाव को दर्शाता है।

पीएम मोदी ने आगे कहा कि, जिन देशों में इन मूर्तियों को चुराकर ले जाया गया, उन्हें भी अब लगने लगा है कि भारत के साथ संबंधों में सॉफ्ट पावर के राजनयिक चैनल में भी इसका बहुत महत्व हो सकता है। इससे जुड़ी हैं भारत की भावनाएं। साथ ही इनसे भारत की श्रद्धा भी जुड़ी हुई है।

इसके अलावा पीएम ने तंजानिया के भाई-बहन द्वारा भारतीय संगीत गाने की तारीफ करते हुए कहा कि दोस्तों भारतीय संस्कृति, हमारी विरासत की बात करें तो आज मैं आपको मन की बात में दो लोगों से मिलवाना चाहता हूं। तंजानिया के दो भाई-बहन, किली पॉल, उनकी बहन नीमा, फेसबुक, ट्विटर और इंस्टाग्राम पर काफी चर्चा में हैं और मुझे यकीन है कि आपने भी उनके बारे में सुना होगा।

उन्होंने कहा कि दोनों भाई-बहन के अदंर भारतीय संगीत को गाने का जज्बा और एक दीवानगी है। इसी कारण से दोनों आज काफी लोकप्रिय भी हो गए है।

पीएम मोदी ने कहा कि, हाल ही में गणतंत्र दिवस के अवसर पर हमारा राष्ट्रगान ‘जन गण मन’ गाते हुए उनका वीडियो खूब वायरल हुआ था। मैं दोनों भाई-बहन की क्रिएटिविटी की सराहना करता हूं।

अंतर्राष्ट्रीय मातृभाषा दिवस को लेकर पीएम मोदी ने कहा कि दुनिया की सबसे पुरानी भाषा तमिल भारत में है और हर भारतीय को गर्व होना चाहिए कि हमारे पास दुनिया की इतनी महत्वपूर्ण विरासत है। इसी प्रकार अनेक प्राचीन शास्त्र भी हैं, उनकी अभिव्यक्ति भी हमारी संस्कृत भाषा में है।

उन्होंने कहा, “भाषा केवल अभिव्यक्ति का माध्यम नहीं है, बल्कि समाज की संस्कृति और विरासत को संरक्षित करने का भी कार्य करती है।” पीएम मोदी ने भारत की अनेक भाषाओं का उल्लेख किया और बताया कि मातृभाषा का अपना विज्ञान है और इस विज्ञान को समझने के लिए राष्ट्रीय शिक्षा नीति में स्थानीय भाषा में अध्ययन पर जोर दिया गया है।

Related Articles

Leave a Reply

Your email address will not be published.

one × three =

Back to top button