मोदी ने की सांसदों से अपील… ‘चुनाव आते-जाते रहेंगे बजट सत्र पूरे साल का खाका, इसे फलदाई बनाएं’

नई दिल्ली। सोमवार को साल 2022 के शुरू होने वाले बजट सत्र से ठीक पहले पीएम मोदी ने देश को संबोधित करते हुए कहा कि निश्चित तौर पर चुनाव शुरू होने वाले नए सत्रों और उन पर होने वाली चर्चाओं को प्रभावित करते हैं। मगर, इसके बावजूद हमें यह समझना होगा कि चुनाव तो आते-जाते रहते हैं, लेकिन जब बात देश के विकास की हो और देश की अर्थव्यवस्था को सुद्रण बनाना हो तो इन सभी चीजों को भूल कर हमे केवल देश के बारे में सोचना चाहिए। इन्हीं बातों के साथ पीएम मोदी ने सभी सांसदों का भी स्वागत किया और इन नए सत्र को सफल बनाने की अपील की।

बता दें, इस बार बजट सत्र 8 अप्रैल को समाप्त होगा। जिसमें पहला भाग 11 फरवरी तक चलेगा। 12 फरवरी से 13 मार्च तक का अवकाश होगा, क्योंकि स्थायी समिति बजटीय आवंटन की तब जांच करेगी।

खबरों के मुताबिक़ पीएम ने कहा कि यह सच है कि चुनाव, सत्रों और चर्चाओं को प्रभावित करते हैं। लेकिन मैं सभी सांसदों से अनुरोध करता हूं कि चुनाव चलते रहेंगे, लेकिन बजट सत्र पूरे साल का खाका होता है। हम इस सत्र को जितना अधिक फलदायी बनाएंगे, देश को आर्थिक ऊंचाइयों पर ले जाने के लिए शेष वर्ष के लिए बेहतर अवसर होगा।

बता दें इसी बीच कांग्रेस ने पेगासस स्पाइवेयर मुद्दे पर सदन को ‘गुमराह’ करने के लिए आईटी और सूचना प्रौद्योगिकी मंत्री अश्विनी वैष्णव के खिलाफ विशेषाधिकार प्रस्ताव लाने के लिए रविवार को लोकसभा में नोटिस दिया। बताया जा रहा है कि ऐसा ही नोटिस राज्यसभा में भी दिया जाएगा।

वहीं बजट सत्र शुरू होने से पहले कांग्रेस नेता मल्लिकार्जुन खड़गे ने कहा कि केंद्र सरकार उन मुद्दों पर चर्चा करने के लिए तैयार नहीं है जो हमारे देश को प्रभावित कर रहे हैं, जैसे बेरोजगारी, महिलाओं और दलितों के खिलाफ अपराध, और मुद्रास्फीति अन्य। इसके अलावा, हम पेगासस का मुद्दा उठाएंगे, भले ही केंद्र विपक्ष पर सत्र को काम नहीं करने देने का आरोप लगाए। इसके अलावा द न्यूयॉर्क टाइम्स की रिपोर्ट का हवाला देते हुए, लोकसभा में कांग्रेस नेता अधीर रंजन चौधरी ने कहा, “ऐसा प्रतीत होता है कि मोदी सरकार ने संसद और सुप्रीम कोर्ट को गुमराह किया है और भारत के लोगों से झूठ बोला है।”

Related Articles

Leave a Reply

Your email address will not be published.

Back to top button