भगवा अंतरिक्ष में फहराएगा और सारा संसार देखेगा- दीदी मां

सेवा अस्पताल परिसर स्थित रेवथी लान में दीदी मां साध्वी ऋतंभरा द्वारा सुनाई जा रही रामकथा का आज छठा दिन था। कथा से पहले साध्वी ऋतंभरा के साथ विधायक डा. नीरज बोरा व उनकी पत्नी ने भगवान श्री राम की पूजा की, जिसके बाद कथा की शुरुआत हुई। साध्वी ऋतंभरा ने कहा कि भगवा अंतरिक्ष में फहराएगा और सारा संसार देखेगा।

उन्होंने कहा कि बिना सदगुरु के मार्गदर्शन नहीं होता है। भारत की भूमि पर जन्म लेने के लिए जन्मों-जन्मों तक प्रतीक्षा करनी पड़ती है। आगे कहा कि पूरे भारत को राममय होना चाहिए। वहीं दीदी मां ने विधायक बोरा की तारीफ भी की।

दीदी मां ने कहा कि रंगशाला का रंगमंच ही भारत की भूमि है। सुविधाओं में जीने वाले तेजस्वी नहीं होते। कहा कि जहां भारतीय संस्कार होते हैं वहीं भारत का जन्म होता है। हमारी संस्कृति पर चर्चा करते हुए कहा कि जिसके हाथ में मन नहीं होते वह स्वतंत्र नहीं होते।

उन्होंने यूपी वालों को निर्देश देते हुए कहा कि जात के कारण अपना नेतृत्व मत छोड़ना। बिना राम का कोई जीवन नहीं बिना राम का कोई भारत नहीं। वहीं केदारनाथ में प्रलय का जिक्र करते हुए विजेन्द्र राठौर और उनकी पत्नी लीला की कहानी भी बताई।

वहीं कथा में शामिल हुईं राज्यमंत्री साध्वी नीरंजन ज्योति ने कहा कि पीएम मोदी के साथ मिलकर जो काम कर रही हूं उसमें दीदी मां की प्रमुख भूमिका है। दीदी मां की तारीफ करते हुए आगे कहा कि दीदी मां सरस्वती हैं, करुणा भी हैं और देश के लिए जरुरत पड़े तो दुर्गा भी हैं।

उन्होंने कहा कि राम मंदिर के लिए दीदी मां ने पूरे समाज को जगाने के लिए झकझोर दिया था। उन्होंने कहा कि राम मंदिर, काशी और धारा 370 पर फतह हासिल हुई यह दीदी मां की कृपा है। वहीं साध्वी नीरंजन ने विधायक बोरा का अभिनंदन भी किया।

आज की कथा में दीदी मां ने भरत मिलाप का चरित्र चित्रण किया और उनकी करुणा मयी कथा भी सुनाई। वहीं कथा में राज्य मंत्री साध्वी नीरंजन ज्योति और राज्यसभा सासंद अशोक वाजपेयी भी शामिल हुए। वहीं सोनू नाम के कलाकार ने बजरंगबली का राम-नाम से बना शब्दकला चित्र दीदी मां को भेंट किया।  

बता दें, जब साध्वी ऋतंभरा कथा के इस भाग का वर्णन कर रही थीं, तो कथा स्थल पर मौजूद सभी श्रद्धालु प्रभु राम के नाम का जयकारा लगा रहे थे। बता दें कि पिछले दिनों की तरह आज भी भारी संख्या में श्रद्धालु यहां कथा सुनने के लिए एकत्रित हुए थे।

वहीं कथा के दौरान भजन पर तालियों से पंडाल भक्तिमय हो गया था और महिलाएं राम के भजनों पर थिरक रहीं थी। वहीं आज की राम कथा का समापन भरत मिलाप पर हुआ। जिसके बाद अंत में कथा सुनने आए लोगों ने भगवान् की आरती कर भोजन प्रसाद ग्रहण किया।

बता दें कल यानि 31 दिसंबर को कथा समाप्ति के दिन दीदी मां सुबह 10 बजे दीक्षा अनुष्ठान का आयोजन करेंगी। जिसमें इच्छा पूर्वक श्रद्धालु दीक्षा ले सकते हैं।

Related Articles

Leave a Reply

Your email address will not be published.

Back to top button