Trending

लखनऊ में कूड़ा प्रबंधन देख रही कंपनी पर बड़ी कार्रवाई, नगर आयुक्त ने लगाया 2.2 करोड़ का अर्थदंड

शहर में कूड़ा प्रबंधन का काम देख रही मेसर्स ईको ग्रीन कंपनी पर नगर निगम ने 2.2 करोड़ का अर्थदंड लगाया है। कंपनी घर-घर से कूड़ा उठाने में लापरवाही कर रही थी और कूड़े का प्रबंधन करने की गति भी धीमी थी। इससे पूर्व भी मेसर्स ईको ग्रीन पर नगर निगम ने कार्रवाई की थी लेकिन ऊंची पहुंच के कारण हर बार आगे का काम पाने में सफल रहा। नगर निगम सदन में भी बदतर कूड़ा प्रबंधन को लेकर पार्षद हंगामा कर चुके हैं। नगर आयुक्त अजय कुमार द्विवेदी ने बताया कि शहर की ठोस अपशिष्ट परियोजना के तहत घर-घर से कूड़े को एकत्र कर उसका प्रबंधन का काम मेसर्स इकोग्रीन एनर्जी प्राइवेट लिमिटेड को दिया गया था। मोहान रोड शिवरी प्लांट पर कूड़े की मात्रा के अनुसार उसका प्रबंधन करने के मशीनें लगाई जानी थी।

पूर्व में नगर निगम अधिकारियो ने शिवरी प्लांट के निरीक्षण में पाया कि सभी मशीने चालू अवस्था में नहीं थी। कूड़े के निस्तारण का काम भी संतोषजनक नहीं था। मौजूदा समय 3,40,000 टन पुराना कूड़े का प्रबंधन नहीं किया गया था। कई बार मेसर्स ईको ग्रीन को नोटिस देने के बाद और तीन शिफ्ट में प्लांट चलाने के आदेश के बाद भी ऐसा नहीं किया गया और अगर प्लांट तीन शिफ्टों में चलता तो कूड़े का प्रबंधन हो जाता। वर्तमान में प्लांट पर दो लाख टन आरडीएफ रखा हैे जिसे अभी तक उचित स्थान पर नहीं भेजा गया। प्लांट को क्षमता के अनुरूप संचालित न करने पर मेसर्स इकोग्रीन एनर्जी पर 2.2 करोड़ का अर्धदंड अधिरोपित किया गया है साथ ही जून 2022 तक समस्त कूड़े का निष्पादन करने एवं प्लांट को प्रसंस्करण क्षमता के अनुरूप संचालित करने के निर्देश दिए गए हैं। जून तक समस्त कूड़े का निष्पादन नहीं किया गया तो नगर निगम द्वारा संस्था पर उचित कारवाही की जाएगी

Related Articles

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

two × 2 =

Back to top button