इन आम लक्षणों को भूलकर भी न करें नजरअंदाज, हो सकते हैं इस गंभीर बीमारी के संकेत

लखनऊ। मानव शरीर भी एक मशीन की तरह ही काम करता है। मानो अगर किसी मशीन में खराब तेल डाला जाए और उसकी देखभाल न की जाए। या फिर समय पर मशीन की सर्विस न हो तो मशीनी पुर्जे जंग खा कर बेकार होने लगते हैं। ठीक वैसे ही अगर अव्यवस्थित खानपान और अनियमित दिनचर्या को यदि कोई अपनाता है तो इसका सीधा असर इंसान के स्वास्थ्य पर देखने को मिलता है। इसी बदपरहेजी के कारण मनुष्य को कई गंभीर रोग घेर सकते हैं, जिनमें से एक है फैटी लिवर की समस्या।

बता दें शरीर के लिए प्रोटीन का निर्माण की हो या फिर विषैले पदार्थों को दूर करने से लेकर खाना पचाने, ऊर्जा का संचयन करने, पित्त बनाने और कार्बोहाइड्रेट को स्टोर करना यह सभी काम लिवर ही करता है। फैटी लिवर की समस्या मुख्य रूप से दो प्रकार से होती है। पहली एल्कोहलिक फैटी लिवर और दूसरी नॉन एल्कोहलिक फैटी लिवर।

नॉन एल्कोहॉलिक फैटी लिवर डिजीज उन लोगों में ज्यादा होती है, जो बिलकुल भी शराब का सेवन नहीं करते हैं। हालांकि, ऐसा नहीं है कि ये समस्या आपको अचानक हो जाती है, बल्कि आपका खराब खान-पान और खराब जीवनशैली इस समस्या के पीछे का कारण होती है।

दरअसल वर्तमान समय में खराब खानपान, मोटापा, कोई फिजिकल एक्टिविटी ना करना और अव्यवस्थित जीवनशैली के कारण फैटी लिवर के मरीजों में बढ़ोतरी हो रही है। फैटी लिवर एक ऐसी समस्या है, जिसमें पीड़ित व्यक्ति के लिवर का आकार बढ़ जाता है और उसे खाने को पचाने में दिक्कत महसूस होने लगती है। इस स्थिति में लिवर में फैट जमा होने लगता है।

समय पर इलाज न करवाने के कारण आपका लिवर पूर्ण रूप से डैमेज हो सकता है, जिसे लिवर सिरॉसिस भी कहते हैं। ये स्थिति आगे जाकर कैंसर का कारण बन सकती है। आइए जानते हैं जब आपका लिवर 75 फीसदी तक खराब हो जाता है तो आपके शरीर में कौन-कौन से लक्षण दिखाई देते हैं।

फैटी लिवर के लक्षण कुछ इस प्रकार हैं :

  • थकान– फैटी लिवर के लक्षण में से एक यह है कि इसमें रोगी को अधिक थकान महसूस होती है। कारण यह है कि इस समस्या की वजह से रोगी में ऊर्जा की कमी होने लगती है।
  • वजन का घटना– फैटी लिवर पाचन प्रक्रिया को प्रभावित कर सकता है। इस कारण शरीर में आहार से मिलने वाले जरूरी पोषक तत्वों की कमी हो जाती है। नतीजतन फैटी लिवर के लक्षण के रूप में रोगी का वजन तेजी से गिर सकता है।
  • पेट की परेशानी– फैटी लिवर की समस्या पाचन प्रक्रिया में अवरोध पैदा करने का काम कर सकती है। इस वजह से रोगी में पेट संबंधी कई परेशानियां देखी जा सकती हैं।
  • कमजोरी– पोषक तत्वों की उचित मात्रा न मिल पाने के कारण फैटी लिवर से ग्रस्त व्यक्ति को हर समय कमजोरी का एहसास हो सकता है।
  • भ्रम का अनुभव– फैटी लिवर के लक्षण में कभी-कभी इस बीमारी से ग्रस्त रोगी में भ्रम या उलझन की स्थिति भी देखी जा सकती है।

कुछ अन्य लक्षण इस प्रकार हैं :

  • भूख में कमी
  • पैरों में सूजन
  • मतली की समस्या
  • खुजली की परेशानी
  • जॉन्डिस
  • गैस्ट्रोइंटेस्टाइनल ब्लीडिंग यानी पाचन तंत्र से जुड़े अंगों में रक्तस्त्राव होना।

Related Articles

Leave a Reply

Your email address will not be published.

Back to top button