सत्ता के लिए कुछ भी? कभी राम के अस्तित्व पर मांगे प्रमाण, अब अखिलेश को बता रहे ‘विष्णु अवतार’!

लखनऊ। यूं तो यूपी की सियासत में वाद-विवाद और आरोप प्रत्यारोप का सिलसिला जारी है। मगर इसी बीच एक ऐसी खबर सामने आई है, जिसने सभी को न केवल हैरान किया है, बल्कि सोचने पर भी मजबूर कर दिया है कि वाकई में कोई इंसान ऐसा भी कर सकता है। जी हां, ये मामला है बाराबंकी के गांव काकरिया का। इस गांव में रहने वाले राम लखन नाम के युवक अपने पूरे परिवार सहित सपा मुखिया अखिलेश यादव को भगवान विष्णु का कलयुगी अवतार बता रहे हैं। इतना ही नहीं, इस परिवार ने तो अखिलेश यादव की फोटो अपने घर के मंदिर में रखकर उसकी पूजा करना भी प्रारम्भ कर दिया है।

ध्यान रहे, इससे पहले सपा समर्थकों और नेताओं ने राम मंदिर निर्माण को लेकर न केवल विरोध जताया था, बल्कि भगवान राम के अस्तित्व पर ही सवाल खड़े कर दिए थे।

खबरों के मुताबिक यह पूरा मामला बाराबंकी जनपद के कुर्सी विधानसभा क्षेत्र के अंतर्गत आने वाले गांव काकरिया का है। यहां पर एक परिवार ऐसा भी है जो सपा मुखिया अखिलेश यादव को भगवान विष्णु का अवतार बता रहा है। इन लोगों ने भगवान विष्णु के बराबर तुलना करते हुए अखिलेश यादव की फोटो की पूजा पाठ अपने घर में की शुरू कर दी है।

इस परिवार के लोगों का मानना है कि कलियुग में अखिलेश भगवान विष्णु का दूसरा रूप हैं, अखिलेश यादव ने लोगों का उद्धार करने के लिए पृथ्वी पर जन्म लिया है, इसीलिए इस परिवार ने अखिलेश यादव को भगवान मान लिया है और भगवान के बराबर उनकी फोटो रखकर बकायदा पूरे विधि-विधान से धूप अगरबत्ती के साथ में उनकी पूजा पाठ शुरू कर दी है।

बाराबंकी में समाजवादी पार्टी के समर्थकों ने अपने घर पर सपा मुखिया अखिलेश यादव की फोटो भगवान के बराबर रख कर उसकी पूजा पाठ शुरू कर दी है और ठानी है कि यह पूजा विधानसभा चुनाव के नतीजे आने तक जारी रहेगी। राम लखन का पूरा परिवार अखिलेश की तस्वीर मंदिर में रखकर पूजा कर रहा है। महिलाएं भी इस पूजा पाठ में शामिल हैं।

उनका मानना है कि भगवान विष्णु अखिलेश यादव के रूप में कलियुग में आए हैं और इनकी सरकार बनना इस बार चुनाव में तय है। जब तक इनकी सरकार नहीं बनेगी, तब तक इस घर में अखिलेश यादव और मुलायम सिंह की पूजा होती रहेगी। उन्हें विश्वास है कि अखिलेश की सरकार बनेगी, तभी प्रदेश का कल्याण होगा।

Related Articles

Leave a Reply

Your email address will not be published.

Back to top button