कोरोना का नया वैरिएंट ‘एक्स-ई’ की भारत में दस्तक, जानें कितना है खतरनाक और क्या है लक्षण

वैश्विक महामारी कोरोना ने फिर एक बार टेंशन बढ़ा दी है। कोरोना का सबसे घातक माने जाने वाले वेरिएंट ‘एक्सई’ ने मुंबई में दस्तक दे दी है। इसके अलावा कप्पा वेरिएंट से संक्रमित एक मरीज की पुष्टि हुई है। इसका पता मुंबई मनपा द्वारा बुधवार को जारी की गई जीनोम सिक्वेंसिंग परीक्षण की ग्यारहवीं रिपोर्ट में चला है।

एक्सई कोरोना का हाइब्रिड म्यूटेंट स्ट्रेन है। एक्सई वेरिएंट को दो ओमिक्रोन सब-वेरिएंट- BA.1 और BA.2 का हाइब्रिड स्ट्रेन कहा जाता है। एक्सई वेरिएंट का पहला मामला 19 जनवरी को ब्रिटेन में मिला था। एक्सई ओमिक्रोन के सब वेरिएंट BA.2 से करीब 10 प्रतिशत ज्यादा संक्रामक हो सकता है। विश्व स्वास्थ्य संगठन (डब्ल्यूएचओ) भी एक्सई वेरिएंट को लेकर चिंता जता चुका है।

क्या है XE वेरिएंट और यह कितना खतरनाक?

विश्व स्वास्थ्य संगठन (WHO) के मुताबिक, नया एक्सई वेरिएंट पहली बार 19 जनवरी को यूनाइटेड किंगडम (ब्रिटेन) में पाया गया था और तब से सैकड़ों रिपोर्ट और पुष्टि की जा चुकी है। यह दो अन्य ओमिक्रॉन वेरिएंट बीए।1 और बीए।2 का एक म्यूटेंट हाइब्रिड है और वैश्विक स्तर पर फैल रहे मामलों के लिए जिम्मेदार है। डब्ल्यूएचओ ने कहा है कि नया म्यूटेंट ओमिक्रॉन का बीए।2 सब-वेरिएंट की तुलना में लगभग 10 फीसदी ज्यादा ट्रांसमिसिबल (तेजी से फैलने वाला) है, जो किसी भी स्ट्रेन से ज्यादा संक्रमणीय हो सकता है। नए घटनाक्रम ने स्वास्थ्य हलकों में चिंता पैदा कर दी है, क्योंकि महाराष्ट्र ठीक होने की राह पर है और चल रही तीसरी लहर के अंतिम चरण में है जो दिसंबर 2021 में शुरू हुई थी। हालांकि दुनिया भर में एक्सई के फिलहाल कम ही मामले देखने को मिले हैं, लेकिन इसकी अत्यधिक उच्च संचरण क्षमता का मतलब यह हो सकता है कि यह निकट भविष्य में सबसे प्रभावशाली स्ट्रेन बन जाता है।

एक्सई के क्या है लक्षण?

– जहां तक इसके लक्षण और गंभीरता की बात है तो कुछ में इसके हल्के लक्षण हो सकते हैं तो कुछ मामले गंभीर भी हो सकते हैं।

– इस वायरस की गंभीरता काफी कुछ टीकाकरण पर निर्भर है। जिनको टीका लगा है उनमें इसके हल्के लक्षण हो सकते हैं। बिना टीकाकरण वालों में लक्षण गंभीर भी हो सकते हैं।

– एक्सई वैरिएंट के लक्षणों में बुखार, गले में खराश, खांसी और सर्दी, त्वचा में जलन, गैस्ट्रोइंटेस्टाइनल डिस्ट्रेस की समस्या आदि हो सकती है।

– अभी तक इस बात के कोई प्रमाण नहीं मिले हैं कि एक्सई अधिक गंभीर है, अब तक ओमिक्रॉन के सभी वैरिएंट कम गंभीर दिखाई दिए हैं।

Related Articles

Leave a Reply

Your email address will not be published.

1 × 5 =

Back to top button