कांग्रेस उम्मीदवार अजय को पीएम के खिलाफ भड़काऊ भाषण देना पड़ा भारी, राजद्रोह का मुकदमा दर्ज

लखनऊ। यूपी विधानसभा चुनाव के पहले चरण से ठीक पहले कांग्रेस को बड़ा झटका लगा है। बताया जा रहा है कि कांग्रेस उम्मीदवार अजय राय पर राजद्रोह का मुकदमा दर्ज किया गया है। आरोप है कि अजय ने प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी पर आपत्तिजनक टिप्पणी की है। वहीं उन पर बिना अनुमति पिंडरा के एक गांव में प्रचार-प्रसार कर अचार संहिता का उल्लघन करने का भी आरोप है। बता दें, अजय राय पिंडरा से कांग्रेस उम्मीदवार हैं।

खबरों के मुताबिक़ पिंडरा विधानसभा के लोकल रिटर्निंग ऑफिसर की रिपोर्ट के आधार पर फूलपुर पुलिस स्टेशन में राय के खिलाफ मामला दर्ज किया गया है। राय पर 124A (राजद्रोह) के अलावा सेक्शन  269 और 153 के खिलाफ मामला दर्ज किया गया है।

बता दें, धारा 269 किसी भी बीमारी या संक्रमण को अवैध से लापरवाही से फैलाकर जीवन को खतरे में डालने के लिए लगाई जाती है, जबकि 153 दंगा भड़काने के इरादे से जानबूझकर उकसाने के आरोप में लगाई गई। इसके अलावा सेक्शन 153A और 188 धाराएं भी लगाई गई हैं।

हालांकि, अजय राय ने इस मसले पर सफाई देते हुए कहा है कि उनका मतलब था कि वोटिंग के दिन जनता इस सरकार को हटाने का कार्य करे। चुनाव अधिकारी से शिकायत करने वाले अधिवक्ता शशांक शेखर त्रिपाठी के मुताबिक वायरल हो रहा वीडियो करीब एक हफ्ते पुराना है। शशांक शेखर त्रिपाठी के मुताबिक अजय राय रजवा तारा गांव में गए थे और वहीं का ये वीडियो है।

उन्होंने आरोप लगाया कि जनता को उकसाते हुए अजय राय ने कहा कि जो नमक सरकार की ओर से दिया गया है वह जनता को नुकसान पहुंचाने के लिए दिया गया है। उस नमक को जनता बोरे में भरकर इकट्ठा रखे और 7 मार्च के दिन प्रधानमंत्री और मुख्यमंत्री को गड्ढा खोद कर उसमें गाड़ दे और इसके बाद ऊपर से नमक डाल दे।

वहीं वाराणसी के डिप्टी कलेक्टर और पिंडरा के रिटर्निंग ऑफिसर राजीव राय ने समाचार एजेंसी को बताया कि अजय राय के खिलाफ कई शिकायतें मिली थीं। अजय राय ने अपने बयान को फेसबुक पर भी शेयर किया था। इस मामले में संज्ञान लेते हुए चार सदस्यीय कमेटी बनाई गई थी। कमेटी ने अजय राय को दोषी पाया है। अधिकारी ने बताया कि इस मुद्दे पर अजय राय की प्रतिक्रिया मांगी गई थी, लेकिन उनका जवाब असंतोषजनक पाया गया।

दरअसल, कांग्रेस उम्मीदवार अजय राय वायरल हो रहे वीडियो में पीएम मोदी और सीएम योगी को लेकर आपत्तिजनक शब्द का इस्तेमाल करते सुनाई दे रहे हैं। उन्होंने कथित तौर पर लोगों से कहा कि 7 मार्च को चुनाव के दिन मोदी और योगी को जमीन में गाड़ दें। अजय राय का ये वीडियो वायरल हुआ तो बीजेपी के कार्यकर्ताओं और नेताओं ने इसे लेकर नाराजगी जताई थी और चुनाव अधिकारी से भी शिकायत की थी। चुनाव अधिकारी ने इसकी जांच के लिए चार सदस्यी कमेटी गठित की थी।

Related Articles

Leave a Reply

Your email address will not be published.

5 × one =

Back to top button