लाउडस्पीकर विवाद पर सीएम उद्धव ने बुलाई सर्वदलीय बैठक, राज ठाकरे का शामिल होने से इनकार

नई दिल्ली। महाराष्ट्र से उठा लाउडस्पीकर विवाद अभी भी थमने का नाम नहीं ले रहा है। हर दिन इससे जुड़ा एक नया मामला देखने को मिल जाता है। ऐसे में सत्ता पक्ष और विपक्ष में लगातार ज़ुबानी जंग जारी है। यही वजह है कि मामले की गंभीरता को देखते हुए महाराष्ट्र के मुख्यमंत्री उद्धव ठाकरे ने एक सर्वदलीय बैठक बुलाई है, जिसमें इस संबंध में गहनता से विचार-विमर्श किया जाएगा। हालांकि, जहां एक ओर सभी दल इस बैठक में शामिल होने के लिए राजी हैं, वहीं मनसे प्रमुख राज ठाकरे ने इस बैठक में शामिल होने से साफ इनकार कर दिया है। जबकि उनकी तरफ से मनसे के संदीप देशपांडे, बाला नंदगांवकर और नितिन सरदेसाई इस बैठक में शामिल होंगे।

बता दें मनसे प्रमुख राज ठाकरे ने प्रदेश सरकार से मांग की थी कि मस्जिदों से लाउडस्पीकर हटाए जाएं, अगर ऐसा नहीं हुआ तो वे खुद लाउडस्पीकर पर हनुमान चालीसा का पाठ करना शुरू कर देंगे। इसके बद राज ठाकरे ने एक और बयान देते हुए कहा था कि लाउडस्पीकर पर हनुमान चालीसा का पाठ करना शुरू कर देंगे।

खबरों के मुताबिक़ भाजपा नेता किरीट सोमैया पर हमले का मामला अब दिल्ली पहुंच चुका है। इस मामले में अब भाजपा के एक प्रतिनिधिमंडल ने दिल्ली जाकर गृह सचिव से मुलाकात की है। प्रतिनिधिमंडल के सभी सदस्यों ने राज्य में कानून व्यवस्था को लेकर ज्ञापन सौंपा है साथ ही किरीट सोमैया मामले को भी उठाया।

प्रतिनिधिमंडल का प्रतिनिधित्व कर रहे किरीय सोमैया ने गृह सचिव से महाराष्ट्र के हालात का जायजा लेने के लिए स्पेशल टीम भेजने की मांग की है। बता दें कि सोमैया शनिवार को गिरफ्तार निर्दलीय सांसद नवनीत राणा और उनके विधायक पति रवि राणा से मिलने खार पुलिस स्टेशन गए थे उसी दौरान उनपर कथित रूप से हमला हुआ था।

उद्धव ठाकरे निवास मातोश्री के बाहर हनुमान चालीसा पढ़ने के लिए अड़ीं निर्दलीय सांसद नवनीत राणा और उनके विधायक पति रवि राणा की रात जेल में कटी। जेल जाने से पहले दोनों की कोरोना जांच की गई।

बता दें कि मुंबई पुलिस ने निर्दलीय सांसद नवनीत राणा को यहां भायखला महिला जेल में स्थानांतरित कर दिया जबकि उनके विधायक पति रवि राणा को कड़ी सुरक्षा के बीच पड़ोसी नवी मुंबई की तलोजा जेल ले जाया गया।

शिवसेना नेता संजय राउत ने कहा कि ये महाराष्ट्र की बदनामी का षडयंत्र है, अगर आपकी कोई समस्या है तो आप महाराष्ट्र के मुख्यमंत्री, गृह मंत्री से मीलिए। उत्तर प्रदेश में 3 महीने में 17 दुष्कर्म और हत्याएं हुईं तो वहां राष्ट्रपति शासन लगाएंगे क्या? वहीं एक अधिकारी ने सोमवार को यह जानकारी दी। राणा दंपति पर आईपीसी की धारा 15A और 353 के साथ-साथ बॉम्बे पुलिस एक्ट की धारा 135 के तहत FIR दर्ज है। और सबसे बड़ी धारा 124A यानी राजद्रोह की धारा लगाई गई है।

Related Articles

Leave a Reply

Your email address will not be published.

1 × one =

Back to top button