चैत्र नवरात्रि 2022: कन्या पूजन को लेकर है संशय तो यहां जानें शुभ मुहूर्त के साथ सही विधि

चैत्र नवरात्रि के आठवें दिन मां दुर्गा के रुप महागौरी की पूजा की जाती है। साथ ही अष्टमी तिथि को दुर्गाष्टमी या महाष्टमी का व्रत रखा जाता है। वहीं, नवरात्रि में कन्या पूजन करने की भी परंपरा है। कन्याओं को साक्षात मां दुर्गा का स्वरूप माना जाता है। दुर्गाष्टमी या फिर नवमी के दिन कन्या पूजन किया जाता है।

मान्यता है कि नवरात्रि में कन्या पूजन से मां दुर्गा प्रसन्न होती हैं और भक्तों को सुख समृद्धि का आशीर्वाद देती हैं। इसलिए नवरात्रि में कन्या पूजन करते हैं।

तो आईए जानते हैं कि कन्या पूजन किस दिन किया जाएगा और शुभ मुहूर्त क्या है….

शुभ मुहूर्त

राम नवमी 2022

ज्यादातर जगहों पर नवमी तिथि को भी कन्या पूजन किया जाता है। इस साल नवमी तिथि का आरंभ 10 अप्रैल की रात्रि 1 बजकर 23 मिनट से हो रहा है, जो 11 अप्रैल सुबह 3 बजकर 15 मिनट तक है।

कन्या पूजन विधि

दुर्गाष्टमी या राम नवमी, जिस दिन भी आप कन्या पूजन करना चाहते हैं उस दिन सबसे पहले मां दुर्गा की पूजा करें। फिर कन्याओं को भोजन पर आमंत्रित करें। कन्या को घर में पधारने पर आदरपूर्वक उनको आसन पर बैठाएं। इसके बाद साफ जल से उनके पांव पखारें, उनकी फूल, अक्षत् आदि से पूजा करें। इसके बाद घर पर बने पकवान भोजन के लिए दें। 

इस दिन हलवा, चना और पूड़ी बनाते हैं। मां दुर्गा स्वरूप कन्याओं को भोजन कराने के बाद दक्षिणा दें और उनके पैर छूकर आशीर्वाद लें। इसके बाद खुशी खुशी उनको विदा करें, ताकि अगले साल फिर आपके घर मातारानी का आगमन हो।

Related Articles

Leave a Reply

Your email address will not be published.

5 − two =

Back to top button