उद्धव ठाकरे पर अमित शाह का हमला, कहा- सत्ता के लिए किया हिंदुत्व से समझौता

नई दिल्ली भाजपा अध्यक्ष एवं गृहमंत्री अमित शाह ने बीते दिन यानी रविवार को महाराष्ट्र के मुख्यमंत्री उद्धव ठाकरे को निशाने पर लिया। अमित शाह ने उद्धव ठाकरे पर भाजपा गठबंधन से अलग होने का आरोप लगाते हुए कहा कि उन्होंने सत्ता के लिए हिंदुत्व से समझौता कर लिया है।

खबरों के मुताबिक़ केंद्रीय गृह मंत्री अमित शाह ने रविवार को कहा कि भारतीय जनता पार्टी और उसके तब के गठबंधन सहयोगी शिवसेना के बीच यह तय किया गया था कि 2019 का महाराष्ट्र विधानसभा चुनाव देवेंद्र फडणवीस के नेतृत्व में लड़ा जाएगा, लेकिन उद्धव ठाकरे के नेतृत्व वाली पार्टी ने सत्ता के लिए हिन्दुत्व के साथ समझौता कर लिया। इसके बाद शाह ने महाराष्ट्र के मुख्यमंत्री उद्धव ठाकरे को सीएम पद से इस्तीफा देने और फिर से चुनाव लड़ने की चुनौती भी दी थी।

बता दें कि एक कार्यक्रम में शामिल होने के लिए अमित शाह पुणे पहुंचे थे। जहां उन्होंने अपने संबोधन में कहा- “मैं यहां महाराष्ट्र चुनाव के दौरान था। मैंने खुद शिवसेना से बातचीत की थी। मैं दोहराना चाहता हूं कि यह तय किया गया था कि चुनाव देवेंद्र फडणवीस के नेतृत्व में लड़ा जाएगा और मुख्यमंत्री भाजपा से होगा। लेकिन उन्होंने इससे इनकार किया। उन्होंने सत्ता के लिए हिंदुत्व के साथ समझौता किया। दो पीढ़ी से जिनके सामने लड़ते थे, उनकी ही गोदी में जाकर बैठ गए।”

बता दें कि महाराष्ट्र में 2019 का विधानसभा चुनाव बीजेपी और शिवसेना ने मिलकर लड़ा था। जिसमें ये गठबंधन विजयी भी हुआ था। जीत के बाद शिवसेना ने दावा किया था कि चुनाव से पहले बीजेपी ने आश्वासन दिया था कि इस बार सीएम पद शिवसेना को मिलेगा। शिवसेना के इस दावे को बीजेपी ने खारिज कर दिया। जिसके बाद शिवसेना इस मुद्दे को लेकर भाजपा के नेतृत्व वाले गठबंधन से अलग हो गई थी।

बाद में, उद्धव ठाकरे ने महा विकास अघाड़ी गठबंधन के तहत महाराष्ट्र में सरकार बना ली। इसके लिए उन्होंने कांग्रेस और राष्ट्रवादी कांग्रेस पार्टी के साथ हाथ मिला लिया। वहीं अमित शाह के इस बयान को लेकर शिवसेना सांसद संजय राउत ने सोमवार को कहा कि केंद्रीय गृह मंत्री अमित शाह का यह दावा “वास्तविकता से बहुत दूर” है कि उन्होंने और प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने यह स्पष्ट कर दिया था कि 2019 के राज्य विधानसभा चुनाव के बाद देवेंद्र फडणवीस ही महाराष्ट्र के मुख्यमंत्री बनेंगे।

वहीं राउत ने दिल्ली में संवाददाताओं से बातचीत में आरोप लगाया कि वह भाजपा थी, जिसने सत्ता में बड़ी हिस्सेदारी के लिए शिवसेना को धोखा दिया था। शिवसेना के प्रवक्ता ने यह भी कहा कि उनकी पार्टी हिंदुत्व को कभी नहीं छोड़ेगी।

Related Articles

Leave a Reply

Your email address will not be published.

Back to top button