जनता नहीं… सपनों के बल पर यूपी चुनाव लड़ेंगे अखिलेश! कहा- कृष्ण जी ने बोला जीत पक्की

लखनऊ। आगामी विधानसभा चुनावों को लेकर इन दिनों यूपी की सियासत में काफी बवाल देखने को सामने आ रहे हैं। जहां एक ओर राहुल गांधी ने अभी हाल ही में हिंदुत्व वाले बयान को लेकर भाजपा को निशाने पर लिया तो वहीं सीएम योगी ने इस बात पर पलटवार करते हुए कहा कि कांग्रेस बीते समय से ही राष्ट्रवादी क़ानून के माध्यम से हिन्दुओं को कैद में लाना चाहती थी। इसलिए हम हमेशा से कहते थे और आगे भी कहते रहेंगे कि गर्व से कहो हम हिन्दू हैं। इसकी कड़ी में सपा मुखिया अखिलेश यादव भी किसी मायने में पीछे नहीं हैं। उन्होंने तो इस बार अपने बयान से सभी को हैरान कर दिया है।

खबरों के मुताबिक़ अखिलेश यादव ने कहा कि भगवान श्री कृष्ण इन दिनों खुद उनके सपनों में आते हैं, जो उन्हें सपने में यह कह जाते हैं कि इस बार यूपी में सपा की ही सरकार बनेगी। साथ ही वही रामराज्य भी लाएगी।

दरअसल, सोमवार को लखनऊ में पार्टी दफ्तर में आयोजित एक प्रेस कॉन्फ्रेंस के दौरान एक सवाल के जवाब में अखिलेश यादव ने कहा कि भगवान कृष्ण रोज उनके सपने में आते हैं।

बता दें, हाल ही में बीजेपी के राज्यसभा सांसद हरनाथ सिंह यादव ने एक पत्र लिखकर योगी आदित्यनाथ को मथुरा से चुनाव लड़ने की की मांग की है और कहा है कि या भगवान कृष्ण की प्रेरणा से वह खत लिख रहे हैं।

जब यह सवाल अखिलेश यादव से पूछा गया तो हल्के-फुल्के अंदाज में अखिलेश यादव ने भी कह डाला कि मेरे भी सपने में भगवान कृष्ण आते हैं और कहते हैं कि समाजवादी पार्टी की सरकार बनने जा रही है जो रामराज्य लाएगी।

मुमकिन है कि सपने किसी को भी आ सकते हैं और किसी भी विषय पर आ सकते हैं। मगर, यूपी विधानसभा चुनावों से पूर्व किसी को इस तरह के सपने आना काफी चौकाने वाला है।

अब भला भगवान श्री कृष्ण को यूपी की सियासत में इतना इंटरेस्ट क्यों आने लगा यह सोचने वाली बात है। राजनीति विशेषज्ञों की माने तो मुमकिन है कि यह अखिलेश का चुनावी पैतरा हो सकता है, जिससे वह हिन्दुओं का वोट बैंक कलेक्ट करने का प्रयास कर रहे हैं। साफ़ लफ्जों में कहा जाए तो भाजपा के श्री राम के समक्ष प्रभु श्री कृष्ण को उतारने का प्रयास।

अब राजनीति के चक्कर में भगवान के नाम पर धर्म विशेष को साधने की इस राजनीति में सपा मुखिया अखिलेश शायद यह भूल गए कि भागवान राम हों या फिर भगवान श्री कृष्ण, दोनों ही भगवान विष्णु के ही अवतार हैं। वहीं भगवान का रूप कोई भी हो वह हमेशा अधर्म का नाश करते हैं और धर्म के साथ सदैव बने रहते हैं। वहीं वैज्ञानिक दृष्टिकोण से देखा जाए जो सपनों के विषय में वैज्ञानिकों का कहना है कि इंसान वही चीजें सपनों में देखता है, जिन चीजों को वह वास्तव में पा नहीं सकता है।

Related Articles

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Back to top button