इत्र कारोबारी मामले में फिर घिरे अखिलेश, पीयूष के बाद पुष्पराज के घर पड़ा छापा

लखनऊ। विधानसभा चुनावों से ठीक पहले सत्तारूढ़ भाजपा सरकार ने समाजवादी पार्टी के मुखिया अखिलेश यादव के लिए बड़ी मुश्किलें खड़ी कर दी हैं। हाल ही में कई सपा नेताओं के घर आईटी के छापो के बाद बड़ा खुलासा हुआ था, जिसमें यह सामने आया था कि पीयूष जैन नाम के इत्र कारोबारी के घर में 197 करोड़ रुपये कैश और 23 किलो सोना बरामद हुआ था। इस पर अखिलेश यादव ने सफाई देते हुए खुद को बचाने की कोशिश की थी कि आईटी वालों ने गलत जैन के यहां छापेमारी की है। उनका नाता पीयूष जैन से नहीं बल्कि पुष्पराज जैन से हैं। वहीं ताजा खबर यह है कि आईटी की टीम ने अब उस पुष्पराज जैन के घर भी छापा मार दिया है, जिसे अखिलेश ने अपना करीबी बताया था और जल्द ही उनके मुलाक़ात के लिए कन्नौज भी जाने वाले थे।

खबरों के मुताबिक़ अखिलेश जिस सपा विधान परिषद सदस्य (एमएलसी) और इत्र कारोबारी पुष्पराज जैन उर्फ पंपी के साथ प्रेस कॉन्फ्रेंस करने वाले हैं, उसके घर पर सुबह 7 बजे ही आयकर विभाग के अफसरों की टीम पहुंच गई।

आयकर विभाग की इस कार्रवाई से सपा भड़क गई है। सपा ने कहा, ‘पिछली बार की अपार विफलता के बाद इस बार BJP के परम सहयोगी आयकर ने सपा MLC पुष्प राज जैन और कन्नौज के अन्य इत्र व्यापारियों के यहां पर आखिर छापे मार ही दिए है। डरी BJP द्वारा केंद्रीय एजेंसियों का खुलेआम दुरुपयोग, यूपी चुनावों में आम है।

इससे पहले डीजीजीआई अहमदाबाद ने कन्नौज के इत्र कारोबारी पीयूष जैन के कानपुर ठिकाने पर छापेमारी की थी। इस दौरान 197 करोड़ रुपये कैश और 23 किलो सोना बरामद हुआ था। भारतीय जनता पार्टी (बीजेपी) ने पीयूष जैन का कनेक्शन सपा से जोड़ा था।

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी, गृह मंत्री अमित शाह समेत सभी नेता अपनी रैली में पीयूष जैन के बहाने अखिलेश पर निशाना साध रहे हैं। अपने ऊपर लग रहे आरोपों का जवाब देने के लिए सपा के राष्ट्रीय अध्यक्ष अखिलेश यादव आज कन्नौज जाने वाले हैं।

यहां पर वह अपनी पार्टी के एमएलसी पुष्पराज जैन उर्फ पंपी के साथ प्रेस कॉन्फ्रेंस करने वाले हैं। यानी अखिलेश जब फ्रंटफुट पर खेलने की तैयारी कर रहे थे, तभी आयकर विभाग ने सुबह-सुबह पंपी जैन के ठिकानों पर छापेमारी कर दी।

Related Articles

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

7 + twelve =

Back to top button