अभिव्यक्ति-2022: नर्सिंग और पैरामेडिकल के स्टूडेंट्स ने मरीजों की सेवा की ली शपथ

लखनऊ। सीतापुर रोड स्थित बोरा इंस्टीट्यूट ऑफ एलाइड हेल्थ साइंसेज के प्रांगण में लैंप लाइटिंग सेरेमनी में बीएससी नर्सिंग, जीएनएम, एएनएम, के छात्र-छात्राओं द्वारा मरीजों की सेवा करने व अपनी जिम्मेदारियों को ईमानदारी से निभाने की शपथ लेने के बाद अभिव्यक्ति-2022 का आयोजन बुधवार शाम हुआ।

सांस्कृतिक कार्यक्रमों से सजी इस शाम में छात्र-छात्राओं की प्रस्तुतियों ने उपस्थित अतिथियों एवं अभिभावकों को झूमने पर मजबूर कर दिया। कार्यक्रम का प्रारंभ परंपरागत गणेश वंदना से हुआ। इस अवसर पर बतौर मुख्य अतिथि उपस्थित अटल बिहारी बाजपेयी चिकित्सा विश्वविद्यालय के कुलपति डॉ. एके सिंह ने कॉलेज की वार्षिक मैगजीन मेटाफॉरसिस का विमोचन भी किया।

मुख्य अतिथि डॉ. एके सिंह ने छात्र-छात्राओं को संबोधित करते हुए कहा कि नर्से स्वास्थ्य सेवाओं की रीढ़ हैं। असहाय व लाचारों की मदद करने वाली नर्स के योगदान की किसी से तुलना नहीं की जा सकती है। इसलिए अपने दायित्व को बखूबी निभाना होगा। तभी समाज में सम्मान बढ़ेगा।

उन्होंने बताया कि उत्तर प्रदेश के सरकारी एवं निजी मेडिकल कॉलेजों, डेंटल, नर्सिंग एवं पैरामेडिकल कॉलेजों को अब अटल बिहारी वाजपेयी चिकित्सा विश्वविद्यालय से संबद्ध कर दिया गया है।

इस अवसर पर भाजपा विधायक एवं कालेज प्रबंधक डा.नीरज बोरा ने अपने संबोधन में कहा कि विश्व में महामारी के दौर में चिकित्सा सेवाओं की महत्वपूर्ण भूमिका रही है। ऐसे में चिकित्सा संस्थानों की जिम्मेदारी बढ़ जाती है। अच्छे प्रशिक्षित उपचारिका व स्वास्थ्यकर्मियों को तैयार किया जाए जिससे स्वास्थ्य के क्षेत्र में आने वाली चुनौतियों का सामना किया जा सके और लोगों को बेहतर सेवाएं मुहैया कराई जा सकें।

डा. बोरा ने कहा कि पीएम मोदी और मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने प्रदेश में अधिकाधिक मेडिकल, नर्सिंग एवं पैरामेडिकल क्षेत्र को प्रोत्साहित किया जिससे वर्तमान में ज्यादा से ज्यादा युवा इस क्षेत्र में प्रशिक्षित हो रहे हैं। उन्होंने कहा कि आज भारतीय इस क्षेत्र में महत्वपूर्ण योगदान दे रहे हैं। देश ही नहीं विदेशों में भी वह अपनी सेवाएं दे रहे हैं।

वहीं कॉलेज की निदेशक बिन्दु बोरा ने छात्र-छात्राओं को भावी जीवन में आने वाली कठिनाइयों और चुनौतियों से अवगत कराया एवं उपस्थित सभी अतिथियों का आभार प्रकट किया।

कॉलेज की प्राचार्या डा. शीला तिवारी ने अपने संबोधन में फ्लोरेन्स नाइटेंगल के बारे में बताते हुए उनके द्वारा समाज में निःस्वार्थ भाव से की गई सेवाओं की विस्तार से जानकारी दी। उन्होंने कहा कि इस पेशे में उज्वल भविष्य है। उन्हें अपनी जिम्मेदारी को निभाते हुए व्यवहार कुशल होना चाहिए।

साथ ही उन्होंने इस दौरान संस्थान की प्रगति पर भी प्रकाश डाला। उन्होंने बीएससी नर्सिंग, जीएनएम और एएनएम के छात्र-छात्राओं को मरीजों की सेवा करने और अपनी जिम्मेदारियों को ईमानदारी से निभाने की शपथ दिलाई।

Related Articles

Leave a Reply

Your email address will not be published.

2 × four =

Back to top button