सिविल होगा प्रदेश का सबसे बड़ा अस्पताल

 राजधानी के सिविल अस्पताल में मरीजों को बेहतर इलाज की सुविधा मिल सके, इसके लिए जल्द ही अस्पताल का विस्तार किया जाएगा। वर्तमान में मौजूद बेडों की संख्या 2 गुनी कर दी जाएगी। अस्पताल के विस्तार के लिए चिकित्सालय से लगे सूचना भवन के ध्वस्तीकरण को लेकर यूपी सरकार की ओर से मंजूरी दे दी गई है।
               800 बेड की होगी संख्याः सिविल अस्पताल के निदेशक डॉ. सुभाष चंद्र सुंदरियाल के मुताबिक, आने वाले 2 सालों में डॉ. श्यामा प्रसाद मुखर्जी अस्पताल का विस्तार किया जाएगा। इसके लिए सिविल अस्पताल के पीछे बने सूचना भवन का ध्वस्तीकरण कर नए भवन का निर्माण किया जाएगा। अस्पताल के विस्तार के बाद चिकित्सालय में वर्तमान समय में मौजूद 400 बेडों की संख्या को बढ़ाकर 800 की जाएगी। जिससे भविष्य में उपचार के लिए आने वाले मरीजों को भर्ती होने के दौरान किसी प्रकार की समस्या नहीं होगी।
                 जल्द ध्वस्तीकरण करके शुरू होगा नवनिर्माण का कार्यः अस्पताल के निदेशक ने बताया कि बीते साल 2020 में ही सिविल अस्पताल के विस्तार के लिए सूचना भवन को चिकित्सालय के हवाले कर दिया गया था, लेकिन कोरोना के बिगड़े हालातों के बीच ध्वस्तीकरण का कार्य तेजी के साथ नहीं हो पाया। इस साल सरकार से मंजूरी मिलने के बाद कार्यदायी संस्था जल्द ही सूचना भवन के ध्वस्तीकरण के साथ नवनिर्माण का कार्य शुरू कर देगी।
                  100 तक हो जाएगी आईसीयू बेड की संख्याः अभी तक राज्य में 760 बेड की क्षमता वाला सबसे बड़ा जिला अस्पताल बलरामपुर चिकित्सालय को माना जा रहा था, लेकिन सिविल अस्पताल के विस्तार होते ही 800 तक होने वाली बेड़ों की संख्या के बाद यह यूपी का सबसे बड़ा अस्पताल बन जाएगा। सिविल अस्पताल के विस्तार के बाद अस्पताल में न्यूरो, यूरो, नेफ्रो, गैस्ट्रो, कैथलैब जैसी सुविधाएं और अधिक बेहतर हो सकेंगी। इतना ही नहीं, इसी बीच आईसीयू के बेडों की संख्या बढ़ाकर 100 कर दी जाएगी। जिससे आकस्मिक इलाज के दौरान किसी को समस्या न हो।

Related Articles

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

5 − 4 =

Back to top button