Trending

शपथ ग्रहण :जिला पंचायतों की कमान नवनिर्वाचित जनप्रतिनिधियों के हाथों में, पूर्ण निष्ठा से दायित्वों का निर्वहन करें जिला पंचायत अध्यक्ष : योगी

प्रदेश के नवनिर्वाचित जिला पंचायत अध्यक्षों व सदस्यों ने सोमवार को शपथ ग्रहण किया। इसी के साथ ही लगभग छह माह से प्रशासकों के हाथ चल रही जिला पंचायतों की कमान जनप्रतिनिधियों के हाथों में आ गई। इससे लंबित विकास कार्यों को रफ्तार मिलने की उम्मीद है। 

प्रदेश सरकार ने त्रिस्तरीय पंचायतों का चुनाव समय से न करा पाने की वजह से जनवरी में अधिकतम छह महीने या चुनाव होने तक  प्रशासक तैनात कर दिए थे।जिला पंचायतों में 14 जनवरी से जिलाधिकारियों को प्रशासक तैनात किया गया था। ऐसे में 14 जुलाई से पहले जिला पंचायतों का चुनाव संपन्न कराकर गठन जरूरी था। सरकार ने जिला पंचायत अध्यक्ष के चुनाव संपन्न कराने के बाद पूरे प्रदेश में एक साथ शपथ की तिथि तय की थी। तय कार्यक्रम के अनुसार सोमवार को प्रदेश भर में जिलाधिकारियों ने नवनिर्वाचित जिला पंचायत अध्यक्षों को और जिला पंचायत अध्यक्षों ने सदस्यों को शपथ दिलाई।

कई जिला पंचायत अध्यक्षों ने शपथ समारोह में केंद्र व राज्य सरकार के मंत्रियों, सांसदों, विधायकों व अन्य विशिष्ट मेहमानों को आमंत्रित किया। डिप्टी सीएम केशव प्रसाद मौर्य प्रयागराज में, रामपुर में केंद्रीय अल्पसंख्यक कल्याण मंत्री मुख्तार अब्बास नकवी, कानपुर में औद्योगिक विकास मंत्री सतीश महाना, वाराणसी में पिछड़ा वर्ग कल्याण मंत्री अनिल राजभर, गोंडा में समाज कल्याण मंत्री रमापति शास्त्री, अमेठी में गन्ना विकास राज्यमंत्री सुरेश पासी, कन्नौज में राज्यसभा सांसद गीता शाक्य, बलरामपुर में कैसरगंज के सांसद बृजभूषण शरण सिंह, अयोध्या में सांसद लल्लू सिंह, बाराबंकी में सांसद उपेंद्र रावत, बहराइच में सांसद अक्षयवर लाल गोंड, सीतापुर में मिश्रिख सांसद अशोक रावत शामिल हुए। शपथ के बाद जिला पंचायत अध्यक्षों की अध्यक्षता में पहली बैठक हुई। इसमें विभिन्न समितियों का गठन किया गया। अब निर्वाचित प्रतिनिधि अपनी प्राथमिकताएं तय कर क्षेत्र का विकास शुरू कर सकेंगे।

पूर्ण निष्ठा से दायित्वों का निर्वहन करें जिला पंचायत अध्यक्ष : योगी

मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने नवनिर्वाचित जिला पंचायत अध्यक्षों व सदस्यों से पूर्ण निष्ठा व समर्पण भाव से अपने पद के दायित्वों का निर्वहन करने की अपेक्षा की है। उन्होंने विश्वास जताया है कि ग्रामीण क्षेत्रों के सर्वांगीण विकास के लिए जनप्रतिनिधि सक्रिय योगदान देंगे। योगी ने इन जनप्रतिनिधियों को शपथ ग्रहण करने पर बधाई व शुभकामनाएं दी है। मुख्यमंत्री ने कहा कि पंचायतीराज व्यवस्था लोकतांत्रिक विकेंद्रीकरण का सर्वोत्कृष्ट उदाहरण है। प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के मार्गदर्शन में ग्रामीण भारत को विकास की धुरी बनाया गया है। त्रिस्तरीय पंचायतीराज व्यवस्था की ग्रामीण विकास में महत्वपूर्ण भूमिका है। इसके माध्यम से ग्रामीण इलाकों में विकास के महत्वपूर्ण कार्य संचालित किए जाते हैं।

Related Articles

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

19 + 17 =

Back to top button